जानिए हेल्थ इन्शुरन्स पर जीएसटी का प्रभाव

HEALTH INSURANCE



जीएसटी देश के सबसे बड़े अप्रत्यक्ष कर सुधारों में से एक है। गुड एंड सर्विसेज टैक्स (GST) 1 जुलाई, 2017 से लागू हुआ। जीएसटी “एक राष्ट्र, एक कर” की धारणा के साथ राष्ट्रीय स्तर पर सेवाओं के साथ-साथ वस्तुओं के निर्माण, बिक्री और उपभोग पर लगने वाला एक व्यापक अप्रत्यक्ष (indirect) कर है। यह कर स्वास्थ्य बीमा पॉलिसियों  पर भी लागू होता है । आइए जानते हैं आपके हेल्थ इन्शुरन्स पर जीएसटी का प्रभाव। 

  • जीएसटी से पहले की अवधि में, यह  15% की दर से सेवा कर, 14% सेवा कर, 0.5% स्वच्छ भारत उपकर और 0.5% कृषि कल्याण उपकर मेडिकल पॉलिसी पर लागू होता था। लेकिन 1 जुलाई, 2017 जीएसटी के तहत, कर की दर 18% तक बढ़ गई है जिसकी वजह से प्रीमियम में भी वृद्धि हुई है । क्योंकि प्रीमियम का पूरा प्रारूप बदल गया है।
  • जुलाई 2017 से सभी जीवन बीमा और हेल्थ पॉलिसियों पर 15% की पिछली दर कर को 18% से बदल दिया गया था। इसका मतलब है कि पॉलिसीधारकों द्वारा देय प्रीमियम भी बढ़ा दिया गया था।आइए एक उदाहरण के साथ स्वास्थ्य बीमा पर जीएसटी के परिदृश्य को समझते हैं।
  • GST से पहले मान लीजिए, आपने INR 8,00,000 का हेल्थ इन्शुरन्स प्लान खरीदा  होता  तो आपका वार्षिक प्रीमियम बनता INR 20,000 + 15% GST (3000) यानी = 23,000
  • लेकिन, अब GST एरा में आपको 18% की दर से हेल्थ पॉलिसि पर कर देना होगा । यानी अब 18% प्रीमियम में जोड़ा जाएगा, तो देय वार्षिक प्रीमियम की कुल राशि INR 20,000 + 18% 20,000 यानी 3600 = 23,600 के बराबर होगी।
  • स्वास्थ्य बीमा कंपनियों को उच्च अनुपालन और प्रशासनिक लागतों का सामना करना पड़ सकता है क्योंकि अधिक जीएसटी रिटर्न दाखिल करने की आवश्यकता होगी और अधिक अंतर-शाखा लेनदेन होगा। 
  • हेल्थ इन्शुरन्स  रखने वाले परिवार को बीमा खर्च में वृद्धि सामना करना पड़ेगा । औसतन, अब परिवार 3% बढ़े हुए बीमा व्यय का भुगतान करेंगे।
  • हालाकी देखा जाए तो GST ग्राहकों के लिए नुकसान कम फायेदा ज़्यादा लाया है । उच्च प्रीमियम बीमाकर्ताओं के भीतर भय को अंकुरित कर रहा है कि उनके ग्राहक कम हो जाएँगे । इसलिए, बीमा कंपनियां सस्ती कीमतों पर और कम बोझिल खरीद प्रक्रिया के साथ नीतियां पेश कर रही हैं। ताकि ग्राहकों  को ज़्यादा से ज़्यादा फायेदा मिल सके ।
  • जीएसटी निश्चित रूप से कर प्रणाली में अधिक पारदर्शिता के साथ देश में सरकार के राजस्व में वृद्धि कर रहा है। यह कर संरचना को सरल और अर्थव्यवस्था के तेज गति से बढ़ने की उम्मीद है। 

मेडिकल पॉलिसी अप्रत्याशित चिकित्सा स्थितियों के कारण उत्पन्न होने वाले जोखिम को कवर करती हैं। यह अप्रत्याशित, उच्च बढ़ती चिकित्सा लागतों के खिलाफ कवरेज प्रदान करता है। यह आपके निकट और प्रियजनों को समय पर चिकित्सा देखभाल प्रदान करने में मदद करता है और जरूरत पड़ने पर वित्त के संदर्भ में सुरक्षा जाल के रूप में कार्य करता है। तो जब केयर हेल्थ इंश्योरेंस (फॉर्मर्ली रेलिगेयर हेल्थ इंश्योरेंस) जैसी विश्वसनिए स्वास्थ्य बीमा कंपनी आपके साथ है तो आपको GST से घबराने की ज़रूरत नहीं है। अस्पताल में कैशलेस भर्ती, गंभीर बीमारी कवर, सर्जरी के लिए कवरेज आदि जैसी सुविधाएं हम आपको कम प्रीमियम दर पर कराते हैं। जो कठिन परिस्थितियों में आपके के लिए वरदान हैं।