स्वस्थ जीवन शैली के साथ दिल की बीमारी की संभावना कम करें

HEALTH INSURANCE FOR HEART PATIENTS



दिल की बीमारियाँ सिर्फ भारत में ही नहीं बल्कि पूरे विश्व में मौतों का मुख्य कारण हैं। दिल से संबंधित बीमारियों का खतरा बढ़ जाता है अगर किसी व्यक्ति की निष्क्रिय जीवनशैली है। यदि वह अस्वास्थ्यकर खाद्य पदार्थों का सेवन करता है, या हृदय रोगों का पारिवारिक चिकित्सा इतिहास है, तो भी हृदय संबंधी बीमारियों का खतरा बढ़ जाता है। इसके अलावा, उम्र बढ़ना, धूम्रपान, मोटापा, तनाव, मधुमेह और उच्च रक्तचाप अन्य जोखिम कारक हैं।

दिल की बीमारी एक परिवार के लिए मुख्य रूप से दीर्घकालिक उपचार और उच्च चिकित्सा खर्चों के कारण चिंता का कारण है। इसलिए केयर हेल्थ इंश्योरेंस (फॉर्मर्ली रेलिगेयर हेल्थ इंश्योरेंस) द्वारा 'केयर हार्ट' जैसी बीमारी-विशिष्ट हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी खरीदने की आवश्यकता है। यह हृदय मेडिक्लेम योजना पहले से मौजूद हृदय रोगों के लिए कवर प्रदान करके आपके खर्चों को बचाती है।

दिल की सेहत की देखभाल हर व्यक्ति का लक्ष्य होना चाहिए, चाहे वह किसी भी उम्र या लिंग का हो। हालाँकि, हम जिस व्यस्त जीवन को जी रहे हैं, उसे देखते हुए, हम ऐसे काम करते हैं जो हमारे स्वास्थ्य पर भारी पड़ता है। उदाहरण के लिए, काम को पूरा करने के लिए भोजन छोड़ना या नींद त्यागना।

इसलिए, हमें अपनी जीवन शैली में कुछ स्वस्थ बदलाव लाने के लिए सचेत प्रयास करना चाहिए, जैसा कि नीचे चर्चा की गई है:

रक्तचाप का स्तर बनाए रखें

उच्च रक्तचाप हृदय रोगों के लिए सबसे बड़ा जोखिम कारकों में से एक है। रक्तचाप की नियमित जांच, समय पर दवा, अच्छी नींद और कम सोडियम वाला आहार रक्तचाप को सामान्य स्तर पर रखने और दिल की जटिलताओं से बचने के कुछ आवश्यक तरीके हैं। तनाव अक्सर रक्तचाप बढ़ाने के लिए जिम्मेदार होता है। दिल को स्वस्थ रखने के लिए तनाव को नियंत्रित किया जाना चाहिए।

>> Check: हृदय रोग के लिए हेल्थ इंश्योरेंस क्यों आवश्यक है?

स्वस्थ आहार लें

जिन खाद्य पदार्थों में संतृप्त वसा, चीनी और नमक अधिक मात्रा में होते हैं, उन्हें नहीं लेना चाहिए क्योंकि वे हृदय की समस्याओं के जोखिम को बढ़ाते हैं। वसायुक्त खाद्य पदार्थों से कोलेस्ट्रॉल और ट्राइग्लिसराइड के स्तर में वृद्धि होती है जिससे धमनियों में (रक्त वाहिका जो ऑक्सीजन से भरपूर रक्त हृदय से शरीर की अन्य कोशिकाओं तक ले जाती है) रुकावट हो सकती है।इस स्थिति को कोरोनरी धमनी रोग कहा जाता है। जंक फूड्स के बजाय, स्वस्थ स्नैक्स और संपूर्ण अनाज ताजे सब्जियों और फलों से युक्त पौष्टिक खाद्य पदार्थों का सेवन करें।

दिल के लिए व्यायाम करें

हृदय की मांसपेशियों को मजबूत बनाने के लिए व्यायाम आवश्यक हैं। शारीरिक गतिविधि का अभाव एक व्यक्ति को हृदय रोगों के अधिक जोखिम में डाल सकता है। व्यायाम विशेष रूप से उन लोगों के लिए आवश्यक है, जिनके दिल की बीमारियों का पारिवारिक इतिहास है। अपनी उम्र को ध्यान में रखकर एक व्यायाम योजना चुनें। वरिष्ठ नागरिकों के लिए, योग और नियमित रूप से चलना उचित है। युवा लोगों के लिए, अधिक विकल्प हैं जैसे एरोबिक्स, भार प्रशिक्षण, साइकिल चलाना, तैराकी, आदि।

डायबिटीज को कंट्रोल करें

अगर आप मधुमेह से पीड़ित हैं, तो आपको सावधान रहना चाहिए।मधुमेह के रोगियों में दिल की जटिलताएँ उत्पन्न हो सकती हैं क्योंकि उच्च रक्त शर्करा हृदय तक पहुँचने वाली रक्त वाहिकाओं और तंत्रिकाओं को नुकसान पहुँचा सकता है। उचित दवा, समय पर जांच और स्वस्थ आहार के साथ, कोई भी मधुमेह के दुष्प्रभावों को दूर कर सकता हैऔर हृदय रोगों की शुरुआत को रोक सकता है।

धूम्रपान न करें और शराब न पियें

शराब के अधिक सेवन और धूम्रपान जैसी आदतें रक्तचाप को बढ़ाने के लिए जानी जाती हैं जो हृदय को नुकसान पहुँचाते हैं। इसके अलावा, शराब का सेवन अतिरिक्त वजन बढ़ने का कारण है। इसलिए, एक व्यक्ति को इस तरह के जोखिम वाले कारकों से बचना चाहिए।

शरीर का वजन सही रखें

मोटापा हृदय रोगों के लिए प्रमुख जोखिम कारकों में से एक है। अस्वास्थ्यकर खाने के कारण वजन बढ़ना अन्य कारकों जैसे उच्च रक्तचाप, शरीर में कोलेस्ट्रॉल और रक्त शर्करा के उच्च स्तर से भी जुड़ा हुआ है। शरीर के वजन को सही बनाए रखने के लिए पोषक तत्वों से भरपूर और फाइबर युक्त आहार होना चाहिए, शारीरिक गतिविधियों में वृद्धि करना और शराब का सेवन कम करना चाहिए।

स्वास्थ्य बीमा योजना चुनें

स्वास्थ्य बीमा योजनाएं महत्वपूर्ण हैं क्योंकि वे चिकित्सा व्यय को कवर करके वित्तीय बोझ को कम करने में मदद करती हैं।विशिष्ट योजनाएं हैं जो मधुमेह और उच्च रक्तचाप जैसी बीमारियों के उपचार के लिए बनाई की गई हैं। इस तरह की योजनाओं का लाभ उठाने से आपको गुणवत्ता और समय पर हृदय रोग के उपचार प्राप्त करने में मदद मिलेगी, और इस प्रकार यह दिल की बीमारियों के खतरे को कम करेगा।