क्रिटिकल इलनेस हेल्थ इन्शुरन्स और सामान्य हेल्थ इन्शुरन्स जाने दोनों के बीच का अंतर

HEALTH INSURANCE



आजकल भारत में भी विभिन्न प्रकार के संचारी और गैर-संचारी रोग जैसे उच्च रक्तचाप, मधुमेह, कोरोना वाइरस,कैंसर आदि, खतरनाक रूप ले रहे हैं। इसके साथ- साथ समानांतर चिकित्सा महंगाई व दवा की लागत आसमान को छू रही है। बीमारियों की बढ़ती संभावना को देखते हुए, वित्तीय संकट स्पष्ट है। इस वित्तीय संकट से निपटने के लिए एक स्वास्थ्य बीमा योजना महत्वपूर्ण हो जाती है। इसके अलावा, क्रिटिकल इलनेस हेल्थ पॉलिसी  योजनाएं भी हैं जो बड़ी बीमारियों में फायदेमंद साबित होती हैं। लेकिन, हम में से अधिकांश लोग स्वास्थ्य योजनाओं और गंभीर बीमारी योजनाओं को समान और विनिमेय मानते हैं। 

यहां पढ़ें  एक सामान्य मेडिकल  पॉलिसी और क्रिटिकल इलनेस हेल्थ इन्शुरन्स  योजना की संक्षिप्त समझ के साथ-साथ दोनों के बीच अंतर भी।

क्या है नॉर्मल स्वास्थ्य बीमा योजना?

यह क्षतिपूर्ति बीमा योजना है जो केवल अधिकतम राशि का भुगतान करती हैं जो बीमा राशि तक होती हैं। इसके अंतर्गत आपको पूरी कवरेज दी जाती है। इसमें अस्पताल में भर्ती, पूर्व और बाद के ख़र्च, डे केयर उपचार, एम्बुलेंस लागत, अंग दाता खर्च आदि शामिल हैं। नॉर्मल मेडिकल पॉलिसी योजना चिकित्सा आपातकाल से संबंधित सभी खर्चों को कवर करने के लिए डिज़ाइन की गई है। 

क्या है गंभीर बीमारी (क्रिटिकल इलनेस हेल्थ इन्शुरन्स) योजना?

यह पॉलिसी अनुबंध में उल्लिखित बीमारियों की एक निर्दिष्ट सूची के लिए कवरेज प्रदान करती हैं। यदि आप इस योजना से आच्छादित किसी बीमारी से ग्रस्त हैं, तो संबंधित सभी मेडिकल खर्चों लिए कवरेज मिलती है । 

>>क्लिक करें पढ़ने के लिए क्यों ज़रूरी है वरिष्ठ नागरिकों के लिए स्वास्थ्य बीमा

स्वास्थ्य बीमा और गंभीर बीमारी योजनाओं के बीच अंतर

आइए जानते हैं स्वास्थ्य बीमा और गंभीर बीमारी योजनाओं के बीच अंतर ।

कवरेज

सामान्य मेडिकल पॉलिसी आपातकालीन परिस्थिति  में अस्पताल में विभिन्न बीमारियों  के लिए भर्ती  पर कवरेज  प्रदान करती है । इसमें इन-पेशेंट हॉस्पिटलाइज़ेशन, प्री और पोस्ट हॉस्पिटलाइज़ेशन, एम्बुलेंस कवर और डॉमियिलियरी हॉस्पिटलिफ़िकेशन शामिल हैं।

इसके अलावा, विभिन्न योजनाओं द्वारा आयुष उपचार, अधिवास अस्पताल में भर्ती, बीमित राशि की बहाली, प्रसूति व्यय आदि के लिए कवरेज भी प्रदान किया जाता है। हालाकी इनमें से अधिकतम कवरेज क्रिटिकल इलनेस योजना में भी दी जाती हैं पर केवल निर्दिष्ट बीमारियों के लिए।

बीमा राशि (Sum Insured)

स्वास्थ्य बीमा योजनाएं गंभीर बीमारी योजनाओं की तुलना में उच्च कवरेज राशि की अनुमति देती हैं। ऐसी मेडिकल पॉलिसी में अनुमत बीमित राशि रु। 5-6 करोड़ है। हालांकि, गंभीर बीमारी योजनाओं में उच्च कवरेज के तहत, अधिकतम बीमित राशि 2 करोड़ तक है।

बेनेफिट

सिंपल हेल्थ इन्शुरन्स  इंडेम्निटी बेस्ड प्लान  है। जिसके अधीन आपको सिर्फ़ एक्चुयल में हुए हॉस्पीटलाइज़ेशन के खर्चों के तहत दावे की पूर्ति होती है। किसी भी अन्य उद्देश्यों के लिए उपयोग नहीं किया जा सकता है।इसके विपरीत, क्रिटिकल इलनेस प्लान्स निश्चित लाभ योजनाएं हैं। ये योजनाएं बीमित राशि का भुगतान करती हैं। आप इससे सर्वोत्तम उपचार प्राप्त कर  सकते  हैं।

प्रीमियम 

चूंकि स्वास्थ्य बीमा योजना अधिक विस्तृत कवरेज प्रदान करती है, इसलिए वे जो प्रीमियम लेते हैं, वे स्वाभाविक रूप से अधिक होते हैं। दूसरी ओर, गंभीर बीमारी योजनाएं प्रीमियम के मामले में स्वास्थ्य योजनाओं की तुलना में सस्ती हैं।

>>क्लिक करें पढ़ने के लिए कैसे करें हेल्थ इंश्योरेंस में क्लेम सेटल्मेंट? 

एक हेल्थ इन्शुरन्स प्लान आज के समय में ज़रूरी है। यह आपकी चिकित्सा आकस्मिकताओं के लिए एक सर्वांगीण कवरेज प्रदान करता है व  आपको तनाव मुक्त रखता है। केयर हेल्थ इंश्योरेंस (फॉर्मर्ली रेलिगेयर हेल्थ इंश्योरेंस) देता है आपको दोनों विकल्प। हालाँकि, क्रिटिकल इलनेस हेल्थ पॉलिसी  के लिए नॉर्मल हेल्थ इन्शुरन्स को प्रतिस्थापित नहीं किया जा सकता है। यह एक आवश्यक आवरण है और इसे पहली वरीयता दी जानी चाहिए।