कैसे चुने सांस की बीमारी के लिए सही स्वास्थ्य बीमा?

HEALTH INSURANCE PLANS



सांस की बीमारी के लिए सही स्वास्थ्य बीमा चुनने के टिप्स

आपको यह जानकर आश्चर्य होगा कि विश्व स्तर पर भारत क्रॉनिक ऑब्सट्रक्टिव पल्मोनरी डिजीज (COPD) में पहले और अस्थमा में दूसरे स्थान पर है। प्रदूषण के बढ़ते स्तर, खतरनाक होती वायु की गुणवत्ता, स्मॉग, वाहन और कारखाने का धुआं सांस की बीमारियों को बढ़ा रहे हैं। इस तरह की बीमारियों का प्रबंधन करने के लिए सही उपचार, दवा, आहार और नियमित डॉक्टर के दौरे की आवश्यकता होती है। इन दिनों जहां मेडिकल महंगाई दर सरपट बड़ रही है, वही दवाओं और इलाज की लागत आसमान छू रही है। ऐसे में एक सही हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी बहुत बड़ी मदद साबित हो रही है। जब आप चिकित्सा नीति का विकल्प चुन रहे होते हैं तो आपको कई विकल्प मिलते हैं। इस प्रकार, एक व्यापक स्वास्थ्य बीमा योजना चुनना महत्वपूर्ण है। यहां आप सांस की बीमारियों के लिए सही स्वास्थ्य बीमा पॉलिसी चुनने के टिप्स पढ़ सकते हैं।

1.अधिकतम कवरेज देखें

आपको ऐसी योजना देखनी चाहिए जो आपको अधिकतम कवरेज प्रदान करे। आदर्श रूप से, स्वास्थ्य बीमा में अस्पताल में भर्ती होने के पूर्व और बाद के खर्च, निदान खर्च, उपचार और पुरानी बीमारियों की दवा शामिल होनी चाहिए । ऑर्गन डोनर, डे-केयर ट्रीटमेंट, डायलिसिस कवर, एम्बुलेंस कवर, और दूस री राय अन्य लाभ हैं जो आपको पॉलिसी के तहत मिलते हैं। इसलिए, कवरेज की जांच करें और उस योजना को चुनें जो आपको अधिकतम लाभ प्रदान करे।

2.प्रीमियम राशि

 प्रीमियम राशि वह योग है जो आपको कवर किए जाने वाले जोखिम के लिए निर्दिष्ट अंतराल के बाद बीमा कंपनी को देना होता है। आप वेबसाइट पर उपलब्ध ऑनलाइन प्रीमियम कैलकुलेटर की मदद से प्रीमियम की गणना कर सकते हैं और उस योजना को चुन सकते हैं जो आपके सांस की बीमारी का इलाज अधिकतम कवर करे और आपकी जेब पर बोझ न डाले।

3.इक्स्क्लूश़न पढ़ें

स्वास्थ्य बीमा कवर चुनने से पहले, इक्स्क्लूश़न सूची की जाँच करना बुद्धिमानी है। इक्स्क्लूश़न (बहिष्करण) ऐसी स्थितियाँ हैं जो स्वास्थ बीमा के अंतर्गत नहीं आती। इन पर आप दावा प्राप्त नहीं कर सकते हैं। सुनिश्चित करें कि आपकी योजना आपको न्यूनतम इक्स्क्लूश़न के साथ पूर्ण कवरेज प्रदान करे।

>> More: कैसे करें साँस की बीमारी का रोकथाम?

4.प्रतीक्षा अवधि (वेटिंग पीरियड)

प्रतीक्षा अवधि (वेटिंग पीरियड) वह निर्दिष्ट समय है जिसके तहत पॉलिसी देय होती है। सांस की बीमारी के लिए पॉलिसी खरीदने से पहले प्रतीक्षा अवधि के लिए पूछना उचित है। आदर्श रूप से, यह पॉलिसी की अवधि शुरू होने से 30 दिनों के लिए है और प्री-एक्शीसीटनग डिसीज़स में 1 साल होती है। इसलिए, आपको कम प्रतीक्षा अवधि वाली पॉलिसी खरीदने पर विचार करना चाहिए।

5.आयु मानदंड की जांच करें

सांस की बीमारियों के लिए स्वास्थ्य बीमा कवर खरीदने से पहले आयु मानदंड की जांच करें । कुछ योजनाओं में निर्दिष्ट आयु है, और कुछ योजनाओं में, 60 वर्ष अधिकतम आयु है। तो, आपको ऐसी योजना पर विचार करना चाहिए जिसमें आजीवन कवरेज के साथ
न्यूनतम आयु मानदंड हो।

एक गलत स्वास्थ्य बीमा योजना का चयन आपके वित्त बजट को हिला सकता है। इसलिए सांस की बीमारी के लिए बीमा योजना ख़रीदने से पहले हर विवरण का अध्ययन करे। आप अपने और आपने परिवार की सुरक्षा के लिए भरोसा कर सकते हैं केयर हेल्थ इंश्योरेंस (फॉर्मर्ली रेलिगेयर हेल्थ इंश्योरेंस) की स्वास्थ्य बीमा योजनाओं पर । जो आपकी सभी स्वास्थ्य आवश्यकताओं की देखभाल करती हैं। ये योजनाएं आपको पूर्ण सुरक्षा प्रदान करती हैं और आपको सांस की बीमारी का इलाज कराने में अधिकतम खर्चों की प्रतिपूर्ति करती हैं। इन हेल्थ पॉलिसी में निवेश कर आप न स्रिफ सही उपचर करा सकते हैं बल्कि भविष्य में होने वाली जटिल समस्याओं का सामना करने के लिए भी तैयार रह सकते हैं।